केजरीवाल ने लगाया गुड डे बिस्किट बनाने वाली कंपनी पर BAN.

loading...

Disclaimer: Articles on this website are fake and a work of fiction and not to be taken as genuine or true. इस साइट के लेख काल्पनिक हैं. इनका मकसद केवल मनोरंजन करना, व्यंग्य करना और सिस्टम पर कटाक्ष करना है नाकि किसी की मानहानि करना.
Share Button

एक ताज़ा मिली खबर के अनुसार दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने गुड डे बिस्किट बनाने वाली कंपनी पर ban लगा दिया है. पहले तो कुछ समझ में नही आया की उन्होने ऐसा क्यूँ किया है. फिर लगा शायद गुड डे बिस्किट में कुछ ऐसी चीज़े मिली होंगी जिनसे लोगो की सेहत को नुकसान पहुँचेगा इसलिए यह ban लगाया गया है. लेकिन जब कंपनी ने अपने फुड डिपार्टमेंट से मिले सारे अप्रूवल्स लिखित में दिखा दिए तो पता लगा की मामला कुछ और ही है.

फिर हमारे विशेष सवांददाता ने जब दिल्ली सरकार के प्रवक्ता से बात कर इसका कारण जानने की कोशिश की तो बहुत ही आश्चर्यजनक खुलासा हुआ. हमे पता लगा की चूँकि गुड डे का हिन्दी मैं मतलब होता है “अच्छे दिन”, इसलिए इस कंपनी पर ban लगाया गया है क्यूंकी अरविंद केजरीवाल को शक है की यह कंपनी BJP या मोदी से संम्बंध रखती है.

kejriwal-good-day-biscuit-banned

जब मामले की गहन पड़ताल की गयी तो पता लगा की इस बिस्किट का नाम एक तरह से मोदी के अच्छे दिन आने की चुनावी वायदे को प्रमोट करता दिखता है. इसलिए यह श्री अरविंद केजरीवाल जी को नागवार गुजरा और उन्होने आनन फानन में इस कंपनी पर ban लगा दिया.
हमारे रिपोर्टर ने जब इस मामले में सीधे केजरीवाल से बात की तो उन्होने स्पष्टीकरण दिया की यह ban कंपनी के बिस्किट पर नही बल्कि सिर्फ़ उसके नाम पर लगाया गया है.
केजरीवाल ने कहा, “हमे तो पहले से ही शक था जी की हो ना हो यह कंपनी मोदी जी की देख रेख में चलती है. इसलिए इनके बिस्किट का नाम गुड डे यानी “अच्छे दिन” है. यह आम आदमी के साथ सरासर धोखा है जी और हम इसको किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे जी”.

आगे मिली जानकारी के अनुसार अरविंद केजरीवाल की तरफ से कंपनी पर यह द्वाब बनाया जा रहा है की वे अपने बिस्किट का नाम गुड डे से बदल कर “आम बिस्किट” कर दें ताकि आम आदमी को उनमे अपनी झलक दिख सके. उन्होने यह भी सुझाव दिया की कंपनी चाहे तो अपनी बिस्किट का Mango फ्लेवर लॉंच कर दे और उसको नाम दे “आम बिस्किट” ताकि किसी को भी इस बदले नाम को सुनकर कोई शक नही होगा.

खैर हम अभी तक कंपनी से इस पर कोई प्रितिक्रिया नही ले सके. हालाँकि इस सारे मामले की भनक बाबा रामदेव को पता नही किस तरह से लग गयी और वे एक और चीज़ पर ban का सुनकर खुशी से पागल हो गये और फोन पर अपने साथी से यह कहते सुने गये, “पतंजलि वालो को बोल दो की गुड डे बिस्किट का देसी संस्करण बनाने की तैयारी करें और जल्द से जल्द मार्केट में उतार दे”. और फिर इस तरह से तैयार हुई पतंजलि के मैदा और ट्रांस्फ़ेट रहित बिस्किट की रूपरेखा जोकि आज सबको मार्केट में नज़र आ रहे हैं.

Share Button

Did you like the above post? Why Not Share Your Opinion Below.

Add Comment