बाबा रामदेव ने योगा सिखाने की दुकान बंद की, अब सिर काटना सिखाएँगे.


Disclaimer: Articles on this website are fake and a work of fiction and not to be taken as genuine or true. इस साइट के लेख काल्पनिक हैं. इनका मकसद केवल मनोरंजन करना, व्यंग्य करना और सिस्टम पर कटाक्ष करना है नाकि किसी की मानहानि करना.

मनमोहन सिंह के राज में योगा सिखाने वाला बाबा रामदेव मोदी के आते ही सिर काटने की बात करने लगा है. वाकई अच्छे दिन आ गये हैं इस देश के बाबओं के जो सरेआम धमकियों पे उतर आए हैं.
सारी ज़िंदगी दूसरों को योग से अपने तन मन को स्वास्थ्य सीखने वालों बाबओं के खुद के तन मन अभी तक शांत नहीं हुए. पता ही नही लगा कब उनका शीर्षासन शीर्षकाटन में बदल गया.
खैर, कभी योग गुरु कहलाए जाने वाले बाबा रामदेव ने अपनी योगा की दुकान को ताला लगा दिया है. वैसे तो उनका यह योग का कारोबार पिछले काफ़ी सालों से ठप ही पड़ा था और उनका सारा ध्यान “ध्यान” और “योग” को छोड़ कर सिर्फ़ और सिर्फ़ पैसा बनाने में लगा हुआ है. लोगो को योगा के नाम पर बेवकूफ़ बना कर जो करोड़ो अरबों रुपए अर्जित किए थे वे पतंजलि की अग्न भेंट में स्वाहा हो चुके है.
सो अब बाबा रामदेव ने योगा को पूरी तरह से नकार दिया है और अब उसकी जगह वे लोगो को दूसरे लोगो के सिर काटने के शिक्षा देंगे.

पतंजलि के प्रवक्ता और बाबा रामदेव के नज़दीकी आचार्य बालकृशन ने आज इसकी औपचारिक घोषणा की. आपको पता हो होगा की हाल ही में बाबा रामदेव ने उन सभी लोगो के सिर काटने की बात की थी जो “भारत माता की जय” बोलने से इनकार करेंगे.

baba-ramdev-beheading-row
बाबा रामदेव शीर्षासन की जगह शीर्षकाटन की शिक्षा देते हुए.

अब जो बाबा खुद औरतों की सलवार और चूड़िया पह्न कर छुप कर रामलीला मैदान से भागने वाला हो वह किसका सिर काट सकता है इसका अंदाज तो आप सभी लोग लगा ही सकते हैं. बाबा तो उन अनगणित बरसाती मैंडकों में से एक है जो मोदी के सत्ता में आने के बाद से कीचड़ से निकल कर खुले में आ गये हैं. लेकिन ऐसे मैंडकों की ज़िंदगी सिर्फ़ बरसात के रहने तक ही सीमित होती है.

तो अब जल्द ही आपको पतंजलि की दुकानो में कटे हुए सिर देखने को मिलेंगे लेकिन यह ध्यान रखिएगा की वह कटे हुए सिर में कहीं बाबा का खुद का और उनके साथियों का सिर के साथ साथ मोदी, अमित शाह, अनुपम खैर, स्मृति ईरानी आदि लोगो का सिर शामिल ना हो. अब जब बाबा लोगो को सिर काटने की शिक्षा दे देंगे तो वे लोग सबसे पहले अपना हाथ इन्ही लोगो पे आजमाना चाहेंगे.

तो सभी लोग जो बाबा से शीर्षासन सीख चुके हैं वे कृपया अब शीर्षकाटन की शिक्षा में माहिर होने की तैयारी कर लें. सुनने में आया है की बाबा की इस नयी दुकान में स्मृति ईरानी का भी एक एहम रोल होगा. आपको याद ही होगा की कैसे स्मृति ईरानी ने एक बार अपना सिर काटने की पेशकश की थी. तो बाबा के इस नये शीर्षकाटन संस्थान में सिर काटने का प्रॅक्टिकल डेमो स्मृति ईरानी का ही सिर काटने से दिया जाएगा.

हालाँकि स्मृति ईरानी को जैसे ही इसकी भनक लगी वे यह देश छोड़ कर यहाँ से नो दो ग्यारह हो गयी हैं.

Loading...

Add Comment