भारतीय पासपोर्ट लेने के लिए “भारत माता की जय” बोलना अनिवार्य.


Disclaimer: Articles on this website are fake and a work of fiction and not to be taken as genuine or true. इस साइट के लेख काल्पनिक हैं. इनका मकसद केवल मनोरंजन करना, व्यंग्य करना और सिस्टम पर कटाक्ष करना है नाकि किसी की मानहानि करना.

MEA के सूत्रों के हवाले से खबर आई है की अब से भारतीय पासपोर्ट लेने के लिए “भारत माता की जय” बोलना अनिवार्य होगा. इसके लिए 2 तरह के प्रावधान किए जाएँगे. एक तो पासपोर्ट के फॉर्म में इसको जोड़ा जाएगा. पासपोर्ट आवेदक को “भारत माता की जय” के आगे टिक (✓) करके अपनी सहमति देनी होगी अन्यथा फॉर्म को रिजेक्ट कर दिया जाएगा.
दूसरा, जब पुलिस वेरिफिकेशन के लिए जो अधिकारी आपके घर आएगा, उसके सामने ज़ोर ज़ोर से 3 बार “भारत माता की जय” बोलना होगा. वह अधिकारी इसका वीडियो बना के आपके फॉर्म की डिजिटल कॉपी के साथ upload करेगा. ऐसा करने पर ही पुलिस वेरिफिकेशन पूरा माना जाएगा अन्यथा आपका आवेदन रद्द कर दिया जाएगा और आपको पुन: आवेदन करना पड़ेगा.

indian-passport-bharat-mata-ki-jai-satire-funny-fake

इसके साथ साथ भविष्य में जारी होने वाले सभी पासपोर्ट के हर एक पन्ने पर “भारत माता की ज़य” हिन्दी, अँग्रेज़ी एवं आपकी मातृ भाषा में अंकित होगा.
MEA के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस पर जानकारी देते हुए आगे बताया की भविष्य में इसका भी प्रावधान किया जाएगा की जब आप विदेश जाने के लिए वीसा के आवेदन के लिए जाएँ तो interview के समय उपस्थित वीसा अधिकारी के सामने भी 3 बार “भारत माता की जय” का उच्चारण करें.
इस नये नियम के तहत बाहर के देशों से भारत आने वाले ना सिर्फ़ भारतीय बल्कि विदेशी मूल के लोगो को भी शामिल किया जाएगा ताकि जब वह लोग भारत आएँ तो इम्मिग्रेशन अधिकारी के समक्ष 3 बार “भारत माता की जय” का उच्चारण करें.

जैसे ही इस नये नियम की भनक शिव सेना के प्रमुख नेता राज ठाकरे को मिली तो उन्होने फ़ौरन अपने लेवल पर यह निर्देश जारी कर दिए की मुंबई आने वाले सभी लोगो को “जय महाराष्ट्र” बोलना होगा. अन्यथा उनको मुंबई या महाराष्ट्र में घुसने तक नही दिया जाएगा. हालाँकि उन्होने मराठी भाषी लोगो को इस नियम से मुक्त रखा है और बोला है की यह नियम सिर्फ़ और सिर्फ़ उत्तर भारतीयों पे लागू होगा.

एक विश्वस्त सूत्र की माने तो यह सब प्रावधान All India Federation of Chu*iyapanti के द्वाब में आकर लिए जा रहे हैं. ज्ञात रहे की RSS, BJP और Shiv Sena इस संस्था के स्थाई सदस्य हैं.

इस संस्था के कई संस्थापकों में से एक प्रमुख अनुपम खेर हैं जो की संस्था की ऐसी कई गतिविधियों में काफ़ी मशगूल रहते हैं और ज़्यादातर ट्विटर पर अपनी इस संस्था की कार्यकलापों के अलावा मोदी और BJP का गुणगान करते अपना समय गुज़ारते हैं.

Loading...

Add Comment