चीन बनाएगा दुनिया का सबसे सस्ता पेट्रोल. चाइनीस लोगो के सू सू से बनेगा यह पेट्रोल.


Disclaimer: Articles on this website are fake and a work of fiction and not to be taken as genuine or true. इस साइट के लेख काल्पनिक हैं. इनका मकसद केवल मनोरंजन करना, व्यंग्य करना और सिस्टम पर कटाक्ष करना है नाकि किसी की मानहानि करना.

दुनिया भर में अपनी सस्ती मेड इन चाइना चीज़ो से तहलका मचाने वाला चीन देश अब दुनिया का सबसे सस्ता पेट्रोल बनाने जा रहा है. दुनिया भर की इकॉनॉमिक स्थिति काफ़ी हद तक पेट्रोल के दामों पर निर्भर करती है. लेकिन दुर्भाग्य की बात है की पेट्रोल के दाम पूरी दुनिया में आए दिन बदते ही जा रहे हैं जिसकी वजह से बाकी वस्तुओं के दाम और मंहगाई दिन पर दिन बदती ही जा रही है.

इस मामले में भी एक बार फिर चीन देश ने बाजी मार ली है और एलान कर दिया है की वह दुनिया का सबसे सस्ता पेट्रोल बनाने जा रहा है और अगले एक साल के अंदर यह पेट्रोल दुनिया के सब देशों में बिकने लगेगा. आज सुबह ही एक प्रेस कान्फरेन्स करके चीन ने इसके बारे में आधिकारिक तौर पर जानकारी दी.

made-in-china-cheapest-petrol
स्पेशल पाइप्लाइन चाइनीस लोगो के सू सू को उनके घरों से प्लांट तक ले जाती हुई.

इस प्रेस कान्फरेन्स में दुनिया भर के देशों के मीडीया ने शिरकत की. एक सवाल जो सबके मन में था की आख़िर चीन किस तरह से पेट्रोल का दाम कम करेगा.

इसका जवाब देते हुए चीन ने सबको चौंका दिया जब उसने बताया की यह पेट्रोल चीन के लोगो के सू सू से बनेगा. चीन ने बताया की उनके लोगो के सू सू में वह सारे गुण मौजूद हैं जो की एक ईंधन जैसे की पेट्रोल में होते हैं. ऐसा चीन के लोगो के खास ख़ान पान के कारण है.

चीन के प्रवक्ता Mr. Su Su Karee ने आगे बताया, हालाँकि इस सू सू को सीधे सीधे इस्तेमाल नही किया जा सकता. इसके लिए चीन ने एक खास किस्म का प्लांट लगा लिया है जहाँ पे लोगो के सू सू को रिफाइन किया जाएगा और कुछ केमिकल्स के साथ प्रोसेस किया जाएगा जो की इसको पेट्रोल में बदल देंगे. हालाँकि, इसकी डीटेल्स चीन ने बताने से मना कर दिया है क्यूंकी यह उनका ट्रेड सीक्रेट है जिसको वे किसी हाल में सार्वजनिक नहीं करना चाहते ताकि उनकी monopoly बने रहे.

उन्होने यह भी जानकारी दी की इस पर काफ़ी सालों से चीन रिसर्च कर रहा था और अब जाकर सफलता हासिल हुई है.
चीन में नयी पाइप्लाइन भी बिछा दी गयी है जो लोगो के घर से उनके सू सू को सीधे प्लांट में लेकर आएगी और जहाँ पर आगे की प्रोसेसिंग की जाएगी.
अब चूँकि सू सू तो अत्याधिक मात्रा में मुफ़्त में मौजूद है तो इस पर लागत सिर्फ़ उसकी प्रोसेसिंग में आएगी जोकि बहुत ज़्यादा नहीं है. इसलिए चीन इस तरह से बनाए पेट्रोल को दुनिया भर में बहुत ही सस्ती दरों में बेचने में सफल होगा.

Loading...

Add Comment