भूकंप आने के बाद फेसबुक पर “Marked Safe” ना करने पर एक युवक के दोस्तों ने उसे मरा हुआ समझ लिया.


Disclaimer: Articles on this website are fake and a work of fiction and not to be taken as genuine or true. इस साइट के लेख काल्पनिक हैं. इनका मकसद केवल मनोरंजन करना, व्यंग्य करना और सिस्टम पर कटाक्ष करना है नाकि किसी की मानहानि करना.

दिल्ली NCR के गुड़गाँव   गुरुग्राम में रहने वाले राजेश (नाम बदला हुआ) को उनके दोस्तों ने तब मरा हुआ समझ लिया जब वे म्यांमार में भूचाल के आने के बाद अपने आप को फेसबुक पर “Marked Safe” करना भूल गये.

राजेश गुड़गाँव   गुरुग्राम में सॉफ्टवेर कंपनी टाटा कन्सलटेन्सी सर्वीसज़ में कन्सल्टेंट के पद पर कार्य करते हैं. उनके दोस्तों के मुताबिक राजेश की आदत थी की दुनिया में कहीं भी किसी प्रकार की प्राक्र्तिक आपदा आने पर या किसी भी प्रकार के आत्नकवादी हमले आदि होने के बाद वे अपने आप को फेसबुक पर “Marked Safe” करना नही भूलते थे. लेकिन परसों के म्यांमार में आए भूकंप के बाद राजेश ये नहीं कर पाए तो उनके दोस्तों में मातम छा गया और वे समझे की शायद राजेश इस दुनिया से कुच कर गये.

earthquake-marked-safe-facebook-funny
नेपाल में भूकंप आने के बाद खुद को Marked Safe करते हुआ राजेश (बदला हुआ नाम).

आनन फानन में राजेश के दोस्त उसके घर अफ़सोस करने भी पहुँच गये लेकिन वहाँ राजेश को सही सलामत पाकर उनकी जान में जान आई.
जब इस मामले की जाँच की गयी तो पता लगा की राजेश पिछले 48 घंटो से एक बार भी फेसबुक इस्तेमाल नहीं कर पाए. राजेश जैसे इंसान के लिए यह आम बात नही थी क्यूंकी वे 24×7 फेसबुक पर रहते हैं. यही कारण था की वे आज तक अपने आप को “Marked Safe” करना नहीं भूले थे.

चूँकि उनकी कंपनी TCS में यह समय अप्रेज़ल का है तो वे अपने बॉस द्वारा इस साल के अप्रेज़ल में मिले ग्रेड C से काफ़ी नाखुश थे और अपने इस ग्रेड को बड़वाने के लिए काफ़ी मशक्कत कर रहे थे जिसकी वजह से वे पूरे 48 घंटो तक अपना फेसबुक अकाउंट चेक नहीं कर पाए और ना ही कोई स्टेटस अपडेट कर पाए. यही वजह थी की वे म्यांमार में आए भूकंप के बाद खुद को “Marked Safe” करना भूल गये और यही उनके दोस्तों के लिए भारी मुसीबत का कारण बना.

Loading...

Add Comment