मोदी के शासन में है ‘रामराज्य’ पुलिस थाने में नही देती अब गालियां (व्यंग्य).

loading...

Disclaimer: Articles on this website are fake and a work of fiction and not to be taken as genuine or true. इस साइट के लेख काल्पनिक हैं. इनका मकसद केवल मनोरंजन करना, व्यंग्य करना और सिस्टम पर कटाक्ष करना है नाकि किसी की मानहानि करना.
Share Button

पता नही, लोग क्यों भाजपा का नाम लेने से मुंह ऐसे बना लेते हैं जैसे उनकी बीवी मेरे ही कब्जे में हो। मेरे ख्याल से हर कोई को वर्तमान सरकार का फैन होना चाहिए। मैं तो इस सरकार का फैन तब से हूं, जब से इसने सत्ता संभाली है।

हालांकि मैं पहले कांग्रेसी समर्थक हुआ करता था लेकिन इस सरकार ने शपथ लेते ही ऐसी पलटी मारी की कि हमारे जैसे लोग एक झटके में ही फैन बन गए। अगर अब भी नही समझ रहे हैं तो जरूर आपका कसूर है, हो सके तो आप एक बार अपना चेकअप करा ले।

pm-modi-ram-rajya-satire

मात्र ढाई साल में ही आधा रामराज आ गया है। 4जी आ गया, प्रधानमंत्री खुद निजीकरण को बढ़ावा दे रहे हैं, सरकार जनता के हित में ज़ि न्यूज़ और रिलायंस जैसो को इसलिए बढ़ावा दे रही है ताकि सरकार का खर्च BSNL और डीडी न्यूज़ पर कम हो जाएं और इस बचे हुए पैसे से जनता के लिए नए-नए अवसर पैदा किया जाये।

पैसे को किसी बड़े पूंजीपति के हवाला किया जायेगा क्योंकि वे बेहतर जानते हैं कि इस पैसा का उपयोग कैसे किया जाय। आम आदमी से 98 रुपये का 2जी नेट पैक तो संभाला नही जाता तो भला माल्या की तरह 5000 करोड़ कैसे संभाला जायेगा।
अब फर्क ही फर्क नजर आता है..अब लोगो को सरकारी अस्पताल से मोह हो गया है जो भी सरकारी अस्पताल जाता है, बिना लाइन लगे डॉक्टर का अपॉइंटमेंट तुरंत मिल जाता है, मरीज डॉक्टर के कक्ष से बाहर निकलते ही अस्पताल परिसर के अंदर मिल रहा दवा मुफ़्त में ले लेता है। और फिर मरीज खुशी के गीत गाते हुए भला-चंगा बिल्कुल जॉन अब्राहम वाली बॉडी लेकर घर लौटता है। घर में जब प्रवेश करता है तब सामने उसकी बीवी खड़ी रहती है, उसकी बीवी उसे देखती रह जाती है उसे विश्वास ही नही होता है कि यह वही आलसी और खराब सूरत वाल कांग्रेस के जमाने का आदमी है जो अब सिर्फ एकबार सरकारी अस्पताल से लौटा है तो रणवीर से कम हैंडसम नही दिख रहा है। उसे वह दिन याद आ जाते हैं जब उसने अपने पति को कांग्रेस के जमाने में सरकारी अस्पताल में मात्र तीन दिन के लिए एडमिट कराया था। और जब वह वहां से लौटा था तो ठीक-ठाक सा दिखने वाला उसका पति उस सरकारी अस्पताल के प्रकोप से शक्ति कपूर बन कर लौटा था।

अब घर से जबरदस्ती बुला-बुलाकर बच्चों को स्कूलों में फ्री एडमिशन किया जा रहा है।
रिक्शे और टेंपो वाले से पुलिस ने अब मुफ़्त में सवारी करना बंद कर दिया है बल्कि कहीं कहीं तो यह भी सुनने को मिला हैं कि पुलिस वाले रिक्शे वाले को बिठाकर रिक्शा खींच रहे हैं।
अब थानों या अड्डो में दारू बंद हो गई है। यहां से सिर्फ भक्ति के गीत-संगीत ही सुनाई देते हैं। थाने में गालियों की अब पुरानी बात हो गई है, अब कोई भी थाना में आता है तो उसे पहले सप्रेम बैठने के लिए आग्रह किया जाता है तब फिर थानेदार साहब बैठते है। FIR नोट कर 24 घण्टे में मामला सुलझा भी लिया जाता है उससे भी बड़ी बात है कि वह इसके लिए एक पैसे भी घुस नही लेता है।
अब गिरिराज,तोगड़िया, साक्षी मीठे वचन बोले रहे हैं।
सब्जी वाले स्वयं सब्जी छांटकर और बेहद सस्ती सब्जी बेच रहे है। सब्जी वालों को कांग्रेस के जमाने का महंगाई याद दिलाने पर वह मुफ़्त सब्जी भी दे देता है।
तो आप ही बताइये की रामराज्य नही आ गया ? 🙂

Share Button

Did you like the above post? Why Not Share Your Opinion Below.

Add Comment