“भगवा” रंग के टमाटरों ने भी आम आदमी के घर से किया पलायन. कब होगी घर वापसी?


Disclaimer: Articles on this website are fake and a work of fiction and not to be taken as genuine or true. इस साइट के लेख काल्पनिक हैं. इनका मकसद केवल मनोरंजन करना, व्यंग्य करना और सिस्टम पर कटाक्ष करना है नाकि किसी की मानहानि करना.

अमेरिका में स्पीच देते हुए तो मोदी जी को सिर्फ 9 बार ही स्टैंडिंग ओवेशन मिला था. लेकिन देश की महंगाई तो, मोदी जी के जंगल राज में, लगातार स्टैंडिंग ओवेशन दे रही है. आलम यह है की देश की आम आदमी के घर से टमाटर, प्याज और आलू जैसी आम चीजें भी खास बन चुकी हैं. दाल महारानी के दाम तो नित नए रिकॉर्ड बना रही है.

tomato-price-hike-india-modi
कुल मिलाकर, आम आदमी के जिन्दा रहने के सारे रस्ते बंद होते नज़र आ रहे हैं. अब जब खाने को कुछ बचेगा ही नहीं तो हवा खा कर आखिर कितने दिन निकाल लगा.
वैसे, अगर इस महंगाई में भी कोई आम आदमी अगर घर पर “टमाटर” और “प्याज” का तड़का लगी हुई “दाल” और “आलू” की सब्जी खा ले तो वह भी बड़े फक्र के साथ कह सकता है की उसने अमीरों वालों खाना खा लिया. अब बताओ, मोदी जी ने बैठे बैठे देश के आम आदमी को खास वाली फीलिंग दे दी, वो भी फ्री में.
वैसे लगता है, टमाटर भगवा रंग का होने के कारण उसके “भाव” लड़कियों की तरह कुछ ज्यादा ही बढ़ गए हैं. उसके पांव तो ज़मीन पर लग ही नहीं रहे और वो आसमान की ऊंचाइयों को छू रहा है.
मोदी जी कैराना में हिन्दुओं के पलायन की बात में कोई सच्चाई हो या न हो, लेकिन यह अटूट सच है की टमाटर ने आम आदमी के घर से पलायन जरूर कर लिया है. तो आदरणीय मोदी जी (लिखना तो “डिअर” चाहता था, फिर सोचा कहीं आप भी डिअर आंटी  मैडम  स्मृति ईरानी की तरह इसको दिल पर ना ले लें 🙂 ), अगर विदेशी सैर से फुर्सत मिले तो थोड़ा टमाटर के साथ साथ पलायन कर चुके दाल, प्याज और आलू की घर वापसी के बारे में कुछ सोचियेगा. लेकिन हाँ, 2019 के पहले ही क्यूंकि उसके बाद तो इस देश की जनता खुद ही सोच लेगी की किसको यहाँ से पलायन करवाना है और किसकी घर वापसी. 🙂

Loading...

Add Comment