एसबीआई के सताएं हुए ग्राहकों ने चोर बन कर कुछ इस तरह से लिया SBI से अपना बदला.

loading...

Disclaimer: Articles on this website are fake and a work of fiction and not to be taken as genuine or true. इस साइट के लेख काल्पनिक हैं. इनका मकसद केवल मनोरंजन करना, व्यंग्य करना और सिस्टम पर कटाक्ष करना है नाकि किसी की मानहानि करना.
Share Button
sbi-atm-atm-theft-satire
इन चेहरों के पीछे छुपी हुई मासूमियत देखिये तो आपको नज़र आएगा की यह SBI के सताए हुए ग्राहक हैं.

खबर आई है कि चार चोरों ने स्टेट बैंक कि शाखा में घुस कर एटीएम मशीन को ही चुरा लिया और उस मशीन में से पैसे निकालने की कोशिस करने लगे रहे, लेकिन ये लोग एटीएम मशीन की जगह पासबुक प्रिंट करने वाली मशीन को उठा लाये थे।
चाहे कुछ भी हो इंसान को थोड़ा पढ़ा लिखा होना चाहिए। इनकी अक्ल तो चरने गई थी। कहा जाता है कि चोर का दिमाग और फुर्ती पुलिस वाले से तेज़ होती है। ऐसे चोरों की फुर्ती और दिमागी तेजी देखकर आलसी सिपाही भी खुद को उसेन बोल्ट से कम ना समझता होगा। चोरों को जब अपनी गलती का अहसास हुआ तो ये प्रिंटिंग मशीन को रास्ते में ही छोड़ कर भागने लगे लेकिन जब किस्मत लेने पर ही तुली हो तो भला कौन झंडे गाड़ दिया है, बस फिर क्या था भागने से पहले ही पुलिस के हत्थे पड़ गए।
चोर लुटेरों से ज्यादा नाम तो अपने नेताओं ने कमाया हैं। बिना किसी सबूत के भी कह दिया जाए कि यह मंत्री चोर है, पब्लिक आँख मूँदकर मान लेगी कि हाँ बात तो सही होगी।

ख़ैर, आप फोटो गौर से देख सकते हैं कि यह मशीन एसबीआई की।
एसबीआई जानबूझकर मामलें को दबा रहा है। गौर से देखिए इन चोरों को यह चोर साफ-साफ एसबीआई के सताएं हुए ग्राहक दिख रहे हैं। ऐसा लग रहा है इन्हें एसबीआई को चुना लगाने पर बड़ी खुशी महसूस हो रही है।
ये जब भी एसबीआई के ब्रांच में जाते और पूछते, ‘भैया यह फॉर्म कहाँ जमा होगा ?
एसबीआई कर्मी: तीन नम्बर काउंटर पर पता करें
तीन नम्बर काउंटर पर जाने के बाद, ‘ भैया यह फॉर्म..’
एसबीआई कर्मी: एक मिनट ठहरिये
आधा घण्टा बित जाने के बाद एसबीआई कर्मी: हां जी, फॉर्म दिखाएं
आप काउंटर नम्बर चार पर चले जाएं।
काउंटर नम्बर चार पर जाने के बाद एसबीआई कर्मी: अभी लंच का समय हुआ है, तीन बजे आइये।
ऐसा नही है कि एसबीआई अपने कर्मी का सलेक्शन पर ध्यान नही देती है। वह पूरी कोशिस करती है कि ऐसे कर्मचारी आएं जो पहले से ही एसबीआई प्रणाली में फिट हो चुके हो आप भी देखे कैसे होता है एसबीआई कर्मचारी का इंटरव्यू:

मैनेजर – तुम्हारा नाम क्या है ?

पहला कैंडिडेट – सर मेरा नाम प्रदीप

मैनेजर – बाहर चले जाये

मेनेजर – तुम्हारा नाम क्या है ?

दूसरा कैंडिडेट – सुभाष दुबे

मैनेजर। – जल्दी से निकल जाओ

मेनेजर – तुम्हारा नाम क्या है ?

तीसरा कैंडिडेट– खामोश
मैनेजर – मैंने पूछा what is your name ?

तीसरा कैंडिडेट – अबतक खामोश

मेनेजर – अबे साले अपना नाम बता

तीसरा कैंडिडेट – Still No words.

मेनेजर – सर ! कृपया कर के अपना नाम बताइये।

तीसरा कैंडिडेट – मुझे नहीं पता, काउंटर नम्बर 4 में पूछिये।

मेनेजर – Excellent answer… वाह

तुम SBI के लिए एकदम सही हो…तुम्हारी नौकरी पक्की। कल से ज्वाइन कर लो।

इतना ही नही एसबीआई कर्मी के किस्से तो अब मंगल ग्रह के निवासी तक पहुँच गए हैं।
हॉस्पिटल से फोन आता है: सर आपकी बीवी का बच्चा हो रहा है।
एसबीआई कर्मी : अभी लंच टाइम हुआ है, बच्चे को बोलो बाद में आये।
ये लोग लंच को लेकर इतने स्ट्रिक्ट होते हैं कि अगर माल्या भी 5000 करोड़ लंच टाइम में वापस देने आये तो उन्हें यह कहकर वापस भेज दिया जायेगा कि अभी लंच टाइम हुआ है, बाद में आएं।
लंच करने के बाद जब काम पर लौटते हैं तबतक सर्वर डाउन हो गया रहता है।
इसलिए जब भी बेटा मां को कहता है, ‘ मां, मैं एसबीआई जा रहा हूँ।’
मां कहती है, ‘ रुक बेटा, यह टिफिन, दो-तीन दिन के राशन और नहाने के लिए साबुन और शेविंग किट लेते जा’
और तो और अगर प्रेमिका भी काउंटर पर आकर ‘I LOVE YOU’ बोले तो उसका प्रेमी चाह कर भी खुद को नही रोक पता है यह कहने से कि ‘ कृपया काउंटर नम्बर 3 पर बोले’

Share Button

Did you like the above post? Why Not Share Your Opinion Below.

Add Comment