हमारी फ़र्ज़ी खबर का हुआ असर, TCS ने वापिस लिया Bell Curve यानी घंटा Performance Appraisal सिस्टम.

loading...

Disclaimer: Articles on this website are fake and a work of fiction and not to be taken as genuine or true. इस साइट के लेख काल्पनिक हैं. इनका मकसद केवल मनोरंजन करना, व्यंग्य करना और सिस्टम पर कटाक्ष करना है नाकि किसी की मानहानि करना.
Share Button

हमें यह बताते हुआ काफ़ी खुशी हो रही है की हमारी फ़र्ज़ी खबर ने आख़िरकार TCS के CEO Mr. CHu Nandra को Bell Curve यानी की घंटा अप्रेज़ल सिस्टम को हटाने के लिए मज़बूर कर दिया. अभी हाल ही की खबर के मुताबिक Mr Nandra ने प्रेस कान्फरेन्स करके इसकी जानकारी दी.

जैसे की आप सब को मालूम ही है की हमने अपनी पिछली पोस्ट्स में कुछ बड़े खुलासे किए थे. हमारे स्पेशल ख़ुफ़िया रिपोर्टर ने TCS के सर्वर से HR और TCS के एक कर्मचारी की Whatsapp conversation को लीक किया था जिसे पता लगा था की किस तरह से TCS अपने जूनियर लेवेल के कर्मचारीओं का शोषण करता है.
दूसरा, हमारे उसी खुराफाती रिपोर्टर ने यह बड़ा खुलासा किया था की किस तरह से TCS के ASE और ITA लेवेल के कर्मचारी TCS के घंटा अप्रेज़ल सिस्टम से काफ़ी आहत थे.

जब हमने यह दो बड़े खुलासे किया था तो हमने सपने में भी नहीं सोचा था की इनका असर TCS के CEO पर इतना जल्द होगा की वे 24 घंटे से भी कम समय के अंदर इतना बड़ा एलान करने की लिए बाध्या हो जाएँगे.

tcs-rollback-bell-curve-performance-appraisal-system
घंटा. !!! Performance Appraisal System.

खैर, देर आए दुरुस्त आए. TCS का घंटा अप्रैसल सिस्टम पिछले एक दशक से भी ज़्यादा समय से उनके अपने most talented और capable कर्मचारीओं के लिए एक natural calamity बन कर उनकी ऐसी तैसी करता आ रहा था. ना सिर्फ़ TCS, बल्कि हमारी फ़र्ज़ी खबर का असर पूरे IT इंडस्ट्री पर इस कदर हुआ की काफ़ी कंपनीज़ ने इसको हटाने का मन बना लिया है.

हमारे ख़ुफ़िया रिपोर्टर ने जब TCS के CEO से इस पर उनकी प्रितिक्रिया लेनी चाही, तो पहले से ही तपे बैठ Mr Chu Nandra यह बोलते हुए वहाँ से पतली गली से निकल गये -“देख लूँगा में सब को देख लूँगा”
कुछ और जाँच करने पर यह सामने आया की इस सारे प्रकरण की वजह से CHu Nandra का फाइनल अप्रेज़ल ग्रेड B से घटाकर D कर दिया गया है और शायद उनको अपना कार्यकाल ख़तम होने से पहले ही अपनी CEO की कुर्सी को छोड़ना पद सकता है. लेकिन, उनके लिए राहत वाली बात यह है की जब तक कोई और तमिल / तेलुगु / मलयालम / कनड्डा भाषी या कोई उनके परिवार से इस पद को लेने के लिए सामने नही आता, तब तक वे अपने पद पर बने रहकर ऐसा बंदे की खोज खुद करेंगे और उसके मिलने पर Tamil Tata Consultancy Services  के CEO पद को छोड़ देंगे.

Share Button

Did you like the above post? Why Not Share Your Opinion Below.

Add Comment